RO Water पीना हो सकता है जानलेवा। पानी का TDS कितना हो?

RO Water पीना हो सकता है जानलेवा। पानी का TDS कितना हो?:- आज के इस आर्टिकल RO Water पीना हो सकता है जानलेवा। पानी का TDS कितना होना चाहिए में आपका स्वागत है। आज के इस आर्टिकल में Reverse osmosis के प्रोसेस से फ़िल्टर किये गए पानी यानी RO Water तथा उसका TDS कितना होना चाहिए, उसके बारे जानकारी प्राप्त करेंगे। RO Water या बोतल बंद पानी कितना हानिकारक हो सकता है, ये जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इसलिए मैं आपसे रिक्वेस्ट करूँगा की आप इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें। मुझे पूरा विश्वास है कि ये आर्टिकल आपका जरूर पसंद आएगा और इसे बिना शेयर किए आप रह नहीं पाओगे।

RO Water पीना हो सकता है जानलेवा। पानी का TDS कितना हो?:


दोस्तों,  कहा जाता है जल ही जीवन हैं, लेकिन जब आप इसका इस्तेमाल गलत तरीके से करते हैं, तो यह आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है। आज कल बाजार में मिलने वाले RO Water या बोतल बंद पानी का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।  अगर आपके या आपके मित्र के घर पर RO Putifier  सिस्टम लगा है या आप जब भी घर से बाहर होते हैं तो मार्केट में मिलने वाले बोतल बंद RO Water का इस्तेमाल इस्तेमाल करते हैं। तो आज का यह आर्टिकल आपको जरूर पढ़ना चाहिए।


हर गली, हर दुकान, हर मोहल्ले, होटल और रेस्तरां में मिलने वाला बोतलबंद पानी उतना सुरक्षित नहीं है, जितना आप समझते हैं। बहुत सारे लोग  RO Water के क्या नुकसान हो सकते हैं उसके बारे में जानते हैं। लेकिन आजकल घरों में  RO water Putifier लगवाना और बाहर का बोतलबंद ठंडा पानी पीना एक तरह से फैशन बन गया है।ज्यादातर लोग यह समझते हैं कि पानी जितना ठंडा, मीठा होगा वह उतना ही साफ और सुरक्षित होगा।

दोस्तों पानी की गुणवत्ता को TDS यानी Total Dissolved Solids में मापा जाता है जो बताता है कि पानी में कितना परसेंट मिनरल्स उपस्थित है। सामान्यतः जिस पानी का TDS 200 से 350 के बीच होता है वह अच्छा पानी माना जाता है। बाजार में मिलने वाले RO Water यानी बोतलबंद पानी का टीडीएस बहुत ही कम होता है। बहुत सारे लोग पानी मीठा लगे इसलिए घर में RO water Purifier लगाते हैं और उसका टीडीएस कम करवाते हैं। 150 टीडीएस वाले पानी में आवश्यक मिनरल की मात्रा बहुत कम हो जाती है। ज्यादा मीठा लगने वाले पानी का टीडीएस 100 से भी नीचे होता है।

100 से कम टीडीएस वाला पानी हमारे हार्ट के लिए बहुत ही नुकसानदेह साबित हो सकता है। इससे हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। 100 से कम टीडीएस वाला पानी हमारे बालों के लिए बहुत ही नुकसानदेह साबित होता है। बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है, बालों का ग्रोथ सही तरीके से नहीं हो पाता है।

इसे भी पढ़े- तेजी से वजन घटाने के 7 सबसे असरदार नुस्खे

RO Water पीना हो सकता है जानलेवा। पानी का TDS कितना हो?:

ये पढ़े- चीनी खाने के नुकसान।

 दोस्तों,  जब पानी RO water Putifier से Reverse Cosmosis process द्वारा फिल्टर होकर बाहर निकलता है तो उसके लगभग 90 परसेंट मिनरल्स निकल जाते हैं। जब RO वाटर को बोतल में भरा जाता है उससे पहले पानी को रिवर्स ऑस्मोसिस के प्रोसेस से गुजारा जाता है। जिसके वजह से उस पानी की जो भी गुणवत्ता होती है वह बिल्कुल ही नष्ट हो जाती है। इस पानी में मिनरल्स बिल्कुल ही नहीं होता लेकिन फिर भी इसे मिनरल वाटर कहा जाता है। कुछ समय पहले तक पानी बोतल बंद पानी पर मिनरल वाटर लिखकर के आता था। लेकिन कुछ संस्थाओं द्वारा विरोध करने पर अब बोतल पर ड्रिंकिंग वाटर लिख करके आता है।


शायद आप जानते होंगे कि साधारण पानी में आयरन, कैल्शियम और मैग्नेशियम होता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत आवश्यक होता है। यह हमारे हार्ट, लीवर और ब्रेन के लिए बहुत ही आवश्यक होता है। बोतल बंद पानी मे ये मिनरल्स नही होते है। जिसके वजह से इनका हमारे शरीर कमी हो जाती है।

जब पानी का टीडीएस कम होता है तो ज्यादा दिनों तक प्लास्टिक की बोतल में पानी रखने की वजह से पानी मे प्लास्टिक  घुलने लग जाता है। प्लास्टिक एक ऐसा पदार्थ है जो हजारों सालों में नहीं गलता है। लगातार बोतलबंद पानी पीने के वजह से हमारे शरीर में प्लास्टिक के अवयव चले जाते हैं जिसके वजह से किडनी फेल हो सकती है। यहां तक कि कैंसर जैसी घातक बीमारी भी हो सकती है। इसके अलावे बालों का जड़ना, दाँतों का कमजोर होना, चेहरे पर झुर्रियां आना और पेट से संबंधित  समस्याये हो सकती है।

दोस्तों, ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर हम क्या करें? आप RO का पानी पिये लेकिन कुछ सावधानियों का भी ध्यान रखें। आप जब भी RO  water Putifier लगवाएं, उसका TDS 200 से 350  के बीच में ही सेट कराएं। पानी को फिल्टर होने के बाद प्लास्टिक बोतल में भर करके नहीं रखें। उसको किसी स्टील, तांबे के बर्तन या मिट्टी के मटके में भर कर रखें। जब भी आपको पानी पीना हो इसी बर्तन में से निकाल कर के पीए। कभी भी पानी पीने के लिए प्लास्टिक के बोतल का इस्तेमाल नहीं करें। मार्केट में मिलने वाले बोतलबंद आरो पानी का इस्तेमाल कम से कम करें। हो सके तो बिल्कुल ही बंद कर दें। अगर इस तरह से आप पानी का इस्तेमाल करते हैं तो अपना फायदा तो करेंगे ही इसके साथ-साथ आप पर्यावरण का भी फायदा करेंगे।  क्योंकि जिस बोतलबंद पानी का आप इस्तेमाल करते हैं, वह प्लास्टिक में हो बंद होता है और इस्तेमाल करने के बाद आप प्लास्टिक की बोतल को ऐसे ही फेंक देते हैं, जो पर्यावरण के लिए आज बहुत बड़ा खतरा बना हुआ है।

 अगर पैसे के लिहाज से देखें तो बोतल बंद पानी का जो कॉस्टिंग होती है केवल ₹2 ही होती है। सबसे ज्यादा इस पर जो लागत होती है इसके पैकेजिंग की होती है। इसलिए मैं आपसे रिक्वेस्ट करूंगा कि आप मार्केट में मिलने वाले बोतलबंद पानी का इस्तेमाल कम से कम करें। घर में लगे हुए RO सिस्टम का टीडीएस 200 से 350 के बीच रखें।  इस तरह से आप अपनी सेहत के साथ-साथ अपने वातावरण को की सेहत को भी बना बनाए रख सकते हैं।

पानी पीना हमारे जीवन के लिए बहुत ही आवश्यक है। पानी के बिना हम  कुछ समय के लिए भी नहीं रह सकते हैं अगर सही समय से सही तरीके से शुद्ध पानी पिया जाए तो यह हमारे शरीर के लिए दवाइयों से भी ज्यादा वर्क करता है। लेकिन अगर सही तरीके से सही ढंग से पानी नहीं पिया जाए तो यह हमारे शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा नुकसानदेह साबित हो सकता है।  आज हमें इस बात को समझने की जरूरत है।

 तो दोस्तों आज के आर्टिकल RO Water पीना हो सकता है जानलेवा में बस इतना ही। उम्मीद करता हूं आज की दी गई जानकारी आपके जीवन में अभूतपूर्व सुधार लाने में सहायता करेगी। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसको शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह जानकारी पहुंचाई जा सके। इस आर्टिकल से रिलेटेड किसी तरह का कोई प्रश्न या सुझाव हो तो मुझे कमेंट करके जरूर बताएं मुझे बहुत खुशी होगी। इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।
Previous
Next Post »