फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है?

फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है? 

फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है?
Fatty Liver


आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि फैटी लीवर डिजीज क्या होता है? यह कैसे होता है? फैटी लीवर के क्या लक्षण होते हैं? फैटी लीवर डिजीज को किस तरह ठीक किया जा सकता है? और फैटी लीवर डिजीज में कौन-कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए?

दोस्तों, आजकल फैटी लीवर डिजीज एक सामान्य सी बीमारी हो गई है। लिवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग होता है।लिवर में पित्त का निर्माण होता है जो भोजन को पचाने में मदद करता है। जब इस लिवर में अनावश्यक रूप से फैट जमा हो जाता है तो ऐसे में इसे फैटी लिवर कहा जाता है।

फैटी लीवर होने की मुख्य वजह होता है खानपान में बदलाव, रहन-सहन का ठीक ना होना और अनहैल्थी चीजों का सेवन करना जैसे बाजार में मिलने वाले फास्ट फूड, स्पाइसी फूड और अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन करना।

फैटी लीवर डिजीज मुख्यतः दो तरह का होता है:-


1.अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज(AFLD)
2.नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज(NAFLD)

अल्कोहलिक फैटी लीवर डिजीज
फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है?
Cause of Fatty Liver

इसे भी पढ़े:-आयुर्वेद के साइड-इफेक्ट्स
                 RO पानी पीना हो सकता है जानलेवा
            ज्यादा पानी पीना बन सकता है मौत का कारण
           पिले दांत सफेद बनाये त्रिफला
           कोल्डड्रिंक्स गटकने वालों इसको जरूर पढ़ना

अल्कोहलिक फैटी लीवर डिजीज उन लोगों को होता है जो अल्कोहल यानी कि शराब का सेवन ज्यादा करते हैं। अल्कोहल या शराब के सेवन से लीवर में फैट की मात्रा बढ़ जाती है। लीवर में फैट की मात्रा बढ़ जाने से उसके कार्य करने की क्षमता काफी कम हो जाती है। ज्यादा दिनों तक फैटी लीवर रहने की वजह से लीवर सिरोसिस जैसी घातक बीमारी भी हो सकती है। फैटी लीवर के वजह से कैंसर की बीमारी भी हो सकती है।


नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज

नॉन अल्कोहलिक फैटी लीवर उन लोगों में होता है जो शराब का सेवन कम करते हैं या बिल्कुल ही नहीं करते हैं।प्रश्न उठता है कि जो लोग शराब का सेवन नहीं करते हैं तो उन्हें फैटी लीवर डिजीज क्यों होता है। नॉन अल्कोहलिक फैटी लीवर की मुख्य वजह है मोटापा, अनियमित दिनचर्या, खानपान का संतुलित ना होना और अत्यधिक मात्रा में तली हुई मसालेदार चीजों का सेवन करना इत्यादि।

इसके अलावा नल अल्कोहलिक फैटी लीवर शरीर में हुए बहुत सारी बीमारियों की वजह से भी होता है। अगर आपको कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की प्रॉब्लम है या थायराइड की प्रॉब्लम है या आपका BP,  ब्लड शुगर ज्यादा रहता है इन सब वजह से भी फैटी लीवर हो सकता है।

इसके अलावा और भी बहुत सारे कारण है जिसके वजह से आपको फैटी लीवर  सकता है। अगर आपके पेट का डाइजेशन लगातार ठीक नहीं रहता है। हमेशा कब्ज की शिकायत रहती है तो भी फैटी लीवर हो सकता है। अगर आपके खून में बिलीरुबिन बार-बार बढ़ जाता है या जॉन्डिस की प्रॉब्लम हो जाती है तब भी आपको फैटी लीवर डिजीज हो सकता है।

फैटी लीवर डिजीज के लक्षण

फैटी लीवर की वजह से हमारे शरीर में निम्नलिखित लक्षण दिखने लग जाते हैं:-

1.शरीर में थकान होना
2. कमजोरी महसूस करना
3. पेट के राइट साइड में ऊपर दर्द रहना
4,. भूख न लगना
5. उल्टी होना 
6.चक्कर आना और पैरों में सूजन आना इत्यादि।

फैटी लीवर डिजीज की जांच

फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है?
Test for Fatty Liver

फैटी लीवर डिजीज का पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट और सोनोग्राफी कराई जाती है। ब्लड टेस्ट में एलएफटी, सीबीसी  और लिपिड प्रोफाइल कराई जाती है। ब्लड टेस्ट से हमें बिलीरुबिन, एसजीपीटी, एसजीओपीटी और कोलेस्ट्रॉल इत्यादि के लेवल का पता चलता है जिससे फैटी लीवर डिजीज डायग्नोस करने में मदद मिलती है। पेट का सोनोग्राफी कराने से लीवर की स्थिति का पता चलता है। पेट की सोनोग्राफी फैटी लीवर डिजीज पता करने की मुख्य जांच है।

फैटी लीवर डिजीज का उपचार

अगर आपको फैटी लीवर डिजीज है तो सबसे पहले आपको अपने खान-पान और दिनचर्या को संतुलित करना होता है अगर आपको मोटापे की वजह से फैटी लीवर है तो आपका अपना वजन कम करना चाहिए शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए बाजार में मिलने वाले आने हेल्थी फूड जिसमे फैट की मात्रा ज्यादा हो का सेवन बंद कर देना चाहिए नमक का कम से कम सेवन करना चाहिए।

क्या खाएं
फैटी लीवर डिजीज(FLD) क्या होता है?
फलों और सब्जियों का सेवन

फैटी लिवर डिजीज में आपको फल और हरी पत्तेदार सब्जियों के साथ फलों के जूस का सेवन करना चाहिए।
ज्यादा तैलीय या मसालेदार खाने की चीजों से बचना चाहिए। बाजार में मिलने वाले फास्टफूड या खुले में बेची जा रही चीजों को नहीं खाएं।

इसके अलावा अगर आपको किस तरह की डिजीज की मेडिसिन चल रही है तो उसको प्रॉपर तरीके से लें। खुद से कोई मेडिसिन ना लें। कोई भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क जरुर करें।

वैक्सीनेशन कराएं

इसके साथ ही आप अपने डॉक्टर की सलाह से वैक्सीनेशन जरूर करा लें। हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी का वैक्सीन का टीका उपलब्ध है उसको जरूर लगवा ले।

फैटी लीवर डिजीज होने से कैसे रोकें

अगर आप चाहते हैं आपको फैटी लीवर हो ही नहीं तो इन 5 बातों का ध्यान जरूर रखें:-
०बॉडी वेट मेंटेन रखें
०हेल्दी डाइट लें
०शराब और धूम्रपान का सेवन बंद कर दें
०रेगुलर एक्सरसाइज करें
०अगर आपको किसी भी चीज की मेडिसिन चल रही है तो उसको प्रॉपर तरीके से डॉक्टर की देखरेख में देते रहें

फैटी लीवर डिजीज ठीक हो जाती है

इस तरह से अगर आपको किसी भी तरह की फैटी लीवर है तो घबराये नहीं, फैटी लिवर डिजीज ठीक हो जाता है। आप इन सब बातों को अपने दिनचर्या और खानपान में शामिल करके आप अपने फैटी लीवर से छुटकारा पा सकते हैं।

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यवाद।

Previous
Next Post »