PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment

PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment

PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment
PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment

आज के इस आर्टिकल  PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment में  PCOD क्या होता है इसके क्या कारण है और इसका उपचार कैसे किया जाता है के बारे में पूरी जानकारी प्रोवाइड करूँगा। लगगग 4 मुझे 1 महिला को पीसीओडी (पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर) की समस्या है लेकिन अनमे से 50% माहिलाओ को इसकी पूरी जानकारी नही है।


पीसीओडी क्या है?


आजकल बढ़ते मानसिक तनाव और अनियंत्रित जीवन शैली और ख़ान पान में बदलाव के करण किशोर लड़कियों और महिलाओं में अनियमित मासिक की समस्या जयादा देखने को मिल राही है। महिलाओ और किशोर लड़कियों के यूटेरस में पुरुष हार्मोन एंड्रोजन के बढ़ जान के  कारण ओवरीमें  गांठे बन जाती है जिसके कारण मासिक चक्र में रुकावत आती है। इस्क वजाह से मसिक चक्र अपने समय पर नहीं आता है। इसे ही pcod की बीमारी कहा जाता है।

पीसीओडी के कारण

PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment


महिलाओं और लड़कियों के बदले हुए खानपान के वजह से pcod की समस्या ज्यादा देखने को मिल रही है। मार्किट में मिलने वाले फास्टफूड जंक फूड और ऑयली फ़ूड इसका मुख्य कारण है। महिलाओं द्वरा स्मोकिंग करना भी इसकी एक मुख्य वजह है।

पीसीओडी के लक्षण


पीसीओडी के करण मोटापा, तानाव, अनियमित महावरी, चेहरे पर बाल, मुँहासे, और बांझपन जैसे लक्षण दिखते है। पीसीओडी के कारण चहरे पर बालों की  समस्या पुरुष एंड्रोजन हार्मोन बढ़ जाने कद वजह से होता है।

पीसीओडी के लिए टेस्ट

PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment

पीसीओडी का पता लगाने के लिय सोनोग्राफी की जाति है जिसे ओवरी के आकार और सिस्ट का पत चालता है। रक्त परीक्षण के द्वार थायराइड हार्मोन के लेबल तथ शुगर लेबल  का पता लगाया जाता है। बीमारी का पता चलते ही हमे जीवन शैली में बदलाव और इलाज की आवश्यकता होती है। pcod के वजह से कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, हृदय रोग, चीनी और बांझपन की समस्या हो सकती है। इस बिमारी से कैंसर तक भी हो सकता है।


उपचार


पीसीओडी समस्या के लिए किसी गायनकोलॉजिस्ट से मिलकर अपना पूर्ण चेकअप कराना चहिये और अनके द्वार दी गाई मेडिसिन का बताये गये समय और तरीके  सेवन करना चाहिए।

अपनी खाद्य आदतों को बदलें

PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment


इस बिमारी की मुख्य करण हमारा गलत खानपान है। इसलिए सबसे पहले इसको बदलने की जरूरत होगी। पहल हैम इज़ बडले की जरुरत होगी। बाजार में मिलने में फास्टफूड,जंक फूड के साथ ज्यादा ऑयली और स्पाइसी फ़ूड से बचना चाहिए। फ्रूट्स और greeen vegetables का सेवन करना चाहिए।

स्वस्थ भोजन लें


पीसीओडी में  स्वस्थ और संतुलित भोजन लेना चहिये। ईसके लिए , हरी सब्जियां, विटामिन बी, ओमेगा 3 फैटी एसिड, प्रोटिन, फाइबर से भरपुर चिजे, फ्लेक्ससीड्स और सूखे फल को अपने भोजन में शमिल करना चाहिए। वजन के हिसाब से प्रयाप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। रस के बैड फलों खाये। सुबह नाश्ता जारूर करेन।

योग और व्यायाम


इस बीमारी में मॉर्निंग वॉक, योग और हल्क व्यायाम करना बहत जरुरी है। इसके साथ तैराकी और साइकिल चलाना भी फायदेमंद होता है। योग और व्यायाम हमे तानाव मुक्त और फिट रखता है जिससे मोटापा नही होती है। इन सभी बातों को फ़ॉलो कारकेड आप pcod समस्या से छुटकारा पा सकते है।

उम्मीद है आज का लेख PCOD in Hindi- Causes/Symptoms/Treatment  आपके लिय जरूर सहायक होगा। याहू लेख आप के बारे में बताते हैं। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यवाद।
Previous
Next Post »